नई दिल्ली: भारतीय मर्चेंट नेवी की पहली महिला कप्तान राधिका मेनन को समुद्र में विशिष्ट बहादुरी के लिए आईएमओ पुरस्कार मिलेगा। यह जानकारी सरकार द्वारा दी गई है। इस मामले में जहाज़ रानी मंत्रालय ने एक बयान में कहा है कि ‘तेल उत्पाद टैंक संपूर्ण स्वराज की मास्टर मेनन को पिछले साल जून में बंगाल की खाड़ी में समुद्र में प्रतिकूल हालात में एक डूबती नौका से सात मछुआरों को बचाने में भूमिका के लिए अदभुत शौर्य के लिए 2016 का अंतरराष्ट्रीय समुद्रीय संगठन का अवार्ड मिलेगा।’

बर्फ पर ज़िंदा थे मछुआरे
अंतरराष्ट्रीय समुद्री संगठन (आईएमओ) संयुक्त राष्ट्र विशेषीकृत एजेंसी है जिसपर जहाज़रानी की सुरक्षा और जहाजों द्वारा समुद्री प्रदूषण की रोकथाम की जिम्मेदारी है। बयान में कहा गया है कि भारत सरकार ने कप्तान मेनन को सभी सात मछुआरों को मछली पकड़ने वाली नौका दुर्गाम्मा से बचाने के लिए नामांकित किया। इन मछुआरों के पास से खाना और पानी बह चुका था और यह बर्फ और कोल्ड स्टोरेज पर ज़िंदा थे।

बताया गया कि 15 से 50 साल तक के इन कमज़ोर और मरणासन्न मछुआरों को बचाना काफी संघर्ष भरा काम था। तेज़ तूफान और भारी बारिश के बीच तीन बार की कोशिश के बाद इन्हें बचाया जा सका। बता दें कि कप्तान मेनन भारतीय मर्चेंट नेवी की पहली महिला कप्तान हैं और आईएमओ द्वारा दिए जाने वाले इस बहादुरी पुरस्कार को हासिल करने वाली पहली महिला भी हैं।

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

LEAVE A REPLY